कर्मजीत देवता , पिल्लू गांव

गढवाल में इस देवता की कृपा से पहले तो नहीं दिखते सांप , दीख भी गये तो कुछ नहीं बिगाडते और अगर काट भी दें तो भी हो जाता है ठीक !
उत्तराखण्ड के जनपद रुद्रप्रयाग मुख्यालय से 30 किमी दूर विश्वविख्यात कार्तिक स्वामी के निकट पिल्लू गांव में नाग देवता कर्म जीत का मन्दिर है । यह देवता भी नन्दा देवी की तरह डोली में बैठाकर ( मूर्ति रूप में ) भक्तों द्वारा चित्र में यात्रा पर ले जाया जा रहा है । गढवाल में जगह जगह कर्मा जीत की भेंट चढाने हतु दान पेटिकाएं रखी रहती हैं । गरमी शुरू होने से पहले ही लोग सर्प भय से बचने के लिए भेंट चढाते हैं । सर्पदंश के पीडित व्यक्ति को इस देवता के मन्दिर में ले जाने से सांप का जहर उतर जाता है । पिल्लू गांव के निकट गांव कांदी बाडव में भी एक दूसरा मंदिर कौंलजीत का भी है जिसको नाग देवता का स्त्री रूप माना जाता है । कुछ लोगों को आजकल यदि सांप दिख जाय तो उनको याद आ जाती है कि इस साल इन देवताओं को कोई भेंट नहीं चढाई।